भ्रष्टाचार की समस्या पर निबंध Bhrashtachar Ek Samasya Essay in Hindi

Bhrashtachar Ek Samasya Essay in Hindi

Bhrashtachar par nibandh-दोस्तों आजकल भ्रस्ताचार अपने भारत में फेला हुआ है,आज की हमारी ये पोस्ट Bhrashtachar Ek Samasya Essay in Hindi उन सभी लोगो के लिए है जो भ्रस्ताचार को ख़त्म करना चाहता है,आज देश में
भ्रस्ताचार को रोकने की बहुत ज्यादा जरुरत है क्योकि अगर इसे नहीं रोका गया तोह हमारे देश में ईमानदारी बिलकुल ख़त्म हो जाएगी,और लोग सिर्फ चन्द पैसे कमाने के लिए हमारे देश को खोखला कर देंगे.भ्रस्ताचार किसी व्यक्ति द्वारा अनेतिक रूप से ली गयी अतिरिक्त आमदनी या अपने हक़ से ज्यादा होने वाली कमाई करने को कहते है,आज हम देखे तोह भ्रस्ताचार नाम की ये बीमारी हमारे समाज में ऐसी व्याप्त है की ये चारो और देखने को मिलती है,आज भ्रस्ताचार देश के कोने कोने में है,दोस्तों अगर भ्रस्ताचार नहीं रोका गया
तोह हमारा देश कोई ख़ास प्रगति नहीं कर पायेगा,अगर हमें अपने देश को ऊचाइयो पर पहुचना है तोह हमें भ्रस्ताचार से लड़ना होगा तभी हम देश को आगे बड़ा सकते है.

Bhrashtachar Ek Samasya Essay in Hindi
Bhrashtachar Ek Samasya Essay in Hindi

आज देश के हर शेत्र में काम कर रहे लोगो के बीच हमें भ्रस्ताचार मिलेंगे,ये भ्रस्ताचारी लोग किसी भी शेत्र में हो सकते है,हो सकता है ये लोग नेता हो,या शिक्षा के शेत्र का कोई व्यक्ति हो या फिर कोई पुलिसवाला हो,आपको दुनिया के हर शेत्र में Bhrashtachar फेलाने वाले लोग मिलेंगे,वोह लोग लोगो को लूटते है,और सिर्फ थोड़े से पैसे कमाने के लिए दुसरो से रिश्वत मांगते है.

इसे भी पढिये-महंगाई की समस्या “Badhti hui mehangai ki samasya essay(nibandh) in hindi”

बात करे नेताओं की तोह बहुत से नेता भ्रष्ट होते है,वोह काले धन को सफ़ेद करने में लगे रहते है,और अमीर बनने की कोशिश करते है,सोचिये इतना सारा पैसा ये लोग कहा पर लेकर जायेंगे,अब ऊपर तोह इतना पैसा ले नहीं जायेंगे,शायद कुछ राजनेतिक लोगो को तोह इसकी आदत ही लग जाती है,और वोह हमेशा लोगो को लूटते है,लेकिन राजनीति में ऐसे और भी लोग होते है जो बहुत ही बेहतरीन राजनीती करते है,और देश का,लोगो का भला करने वाला काम करते है,भ्रस्थ लोगो को इन महान राजनेताओ से सीख लेनी चाहिए,और अपने देश के बारे में सोचना चाहिए,और अपनी सीट पैसे के दम पर वोट खरीदकर नहीं बल्कि लोगो के वोटो से जीतनी चाहिए.

इसके आलावा बात करे उस शिक्षा के शेत्र की जहा से हर इन्सान निकल कर आता है,शिक्षा के शेत्र से हर इन्सान की शुरुरात होती है लेकिन अब तोह शिक्षा का शेत्र भी भ्रस्ताचार से अछूता नहीं है,भ्रस्थ लोग शिक्षा के शेत्र में भी है,वोह बेचारे गरीब और होशियार छात्रो को कॉलेज में दाखिला नहीं देते,वोह सिर्फ उनकी जेब में पैसा डालने वाले को कॉलेज में दाखिल करवाते है,ऐसा कब तक चलेगा,क्या हमारे देश में कही किसी जगह ईमानदारी बचेगी,काश देश में ईमानदारी बच सके,अगर देश में ऐसे ही भ्रस्थ लोग देश में काम करते रहे तोह हमारी युवा पीड़ी का क्या होगा,उनके भविष्य का क्या होगा,क्या सिर्फ पैसे वाले स्टूडेंट ही एक अच्छी नोकरी पा सकेंगे,क्या गरीब की एक अच्छी नोकरी बिना रिश्वत दिए नहीं लगेगी,अगर हमारे देश में भ्रस्ताचार अगर इसी तरह से फेलता रह तोह एक दिन ऐसा आएगा की कोई ईमानदार नहीं बचेगा और हमारा देश कभी भी तरक्की नहीं कर पायेगा.

इसके आलावा बात करे पोलिसवालो की तोह आजकल के कुछ पुलिसवाले तोह सिर्फ पैसो वालो को ही सलाम करते है,गरीब अगर छोटी सी गलती करदे तोह उसको मार मारकर सुजा देते है क्योकि उसके पास उन्हें देने के लिए पैसे नहीं है,लेकिन अगर अमीर बड़ा अपराध भी करे तोह पुलिसवाले उसे छुपाने की कोशिश करते है क्योकि अमीर आदमी उन्हें रिश्वत जो खिलाता है,दोस्तों भ्रस्ताचार को ख़त्म करना बहुत जरुरी है,क्योकि इससे हमारा देश पूरी तरह खोखला होता जा रहा है,भ्रस्ताचार देश की बहुत बड़ी बीमारी है,और इसके होते हुए हमारे देश का भविष्य कोई ख़ास नहीं होगा,क्योकि ऐसे ही हमारे देश में लोग सिर्फ अमीरों की सुनेंगे क्योकि उनके पास देने के लिए रिश्वत है,बेचारे गरीब,माध्यम बर्ग के लोगो की तोह कोई सुनेगा ही नहीं तोह बेचारे अच्छे लोगो का क्या होगा,इन भ्रष्ट लोगो की वजह से उनकी जिन्दगी तोह हो गयी ना तवाह,हमें भ्रस्ताचार को रोकना बहुत जरुरी है.

भ्रस्ताचार के कारण और रोकने के उपाए-

दोस्तों आज की इस पोस्ट Bhrashtachar Ek Samasya Essay in Hindi में हम आपको बताएँगे भ्रस्ताचार होने के कारण और इसे रोकने के उपाए जिससे ये ख़त्म हो जाए चलिए आगे पढते है-

लोगो की बेकार सोच-

दोस्तों भ्रस्ताचार होने का सबसे बड़ा कारण है,लोगो की बेकार सोच का होना,आजकल के कुछ लोग नोकरी या कुछ भी करते है तोह वोह उसमे रिश्वत लेते है,ये एक बहुत ही बेकार सोच है,उनको सोचना चाहिए की सिर्फ थोड़े से पैसे बचा कर या किसी से रूपये लेकर वोह अमीर नहीं होने वाले,और अगर अमीर हो भी जाये तोह ऐसे पैसे कमा कर वोह कभी सुख से नहीं रह सकेंगे,लोगो को अपने सोच बदलनी चाहिए,और कभी भी ऊपर या नीचे की कमाई करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए,उनको सोचना होगा की अगर देश में ऐसा हम करेंगे तोह इससे फायेदा नहीं होगा बल्कि हमारे देश का नुकसान ही होगा,और हमारे देश का नुकसान मतलव हमारा नुकसान.

लोगो को अच्छी शिक्षा लेने की जरुरत है,अगर उन्हें ज्यादा पैसा कमा कर अमीर बनना है तोह कोई नेतिक कार्य या कानूनी कार्य करके अमीर बने,उसमे आपको अमीर बनने में भी अच्छा लगेगा और लोग आपको मानसम्मान भी देंगे,आपको अपनी बेकार सोच बदलनी होगी क्योकि सोचिये की अगर आपकी ऐसी सोच होगी तोह आपके बच्चो की क्या सोच होगी.

सिर्फ अपने बारे में सोचना-

आजकल बहुत सारे ऐसे लोग है जो सिर्फ अपने बारे में सोचते है,अगर लोग दुसरो के बारे में या अपने देश के बारे में सोचे तोह अपने देश से भ्रस्ताचार ख़त्म हो जाएगा,हम सभी को सोचना चाहिए हमारे देश के बारे में की ये भ्रस्त काम ना करके हम देश की स्थिति सुधार सकते है,और हमारा देश विकास की राह पर चल सकता है,आप एक अच्छा इन्सान बने,और सोचे की आप भगवन की एक बहुत ही महत्वपूर्ण रचना हो,आप एक इन्सान हो और इन्सान को सिर्फ अपने बारे में नहीं बल्कि दुसरो के बारे में भी सोचना चाहिए.

आपको सोचना होगा की परिवार में अगर एक इन्सान गलत काम करे तोह उसका बुरा असर पूरे परिवार को होता है,उसी प्रकार हमारा देश एक परिवार की तरह है,अगर हम ये गलत काम करेंगे तोह उसका असर हमारे पूरे देश में देखने को मिलेगा और हमारा देश कुछ भी प्रगति नहीं कर सकेगा.

कड़े क़ानून की कमी-

दोस्तों अगर हमको हमारे देश में Bhrashtachar को ख़त्म करना है तोह कड़े क़ानून होना जरुरी है तभी भ्रस्ताचार को रोका जा सकता है,क्योकि तभी लोगो को रिश्वत लेने में या मांगने में डर लगेगा,आज हम चारो और देख रहे है की देश में हमारे राजनेताओ ने भारस्ताचार को ख़त्म करने के लिए कई सेवाए उपलव्ध कराई है,लेकिन बीच वाले लोग उनमे भी सही से काम नहीं कर रहे है,जिस तरह से किसी लड़की के साथ हो रही छेड्कानी के बारे में सुनकर पोलिस एक्शन लेती है या तुरंत उपलव्ध हो जाती है,उसी प्रकार पोलिस को जिस ऑफिस के बारे में पता लगे की वहां भ्रस्ताचार हो रहा है तोह पोलिस तुरंत उपलव्ध होना चाहिए,और कोई सवूत खुद दूंदना चाहिए.तोह हमारे देश में भारस्ताचार ख़त्म हो सकता है.

शिकायत न करना-

दोस्तों अगर आपसे कोई रिश्वत मांगे तोह ये जरुरी है की आप उसके खिलाफ पोलिस में शिकायत दर्ज करवाए,आप डरे नहीं की मेरा काम पूरा नहीं होगा,अगर आप डर गए या पीछे हठ गए तोह हमारे देश का हर एक नागरिक इस भ्रस्ताचार रुपी बीमारी से जूझेगा और हमारा देश कभी भी आगे नहीं बड सकेगा.

हमें समझना होगा की शुरुआत सिर्फ एक से होती है,अगर आप ही पीछे हठ गए तोह और लोगो का क्या होगा,वोह क्या करेंगे,वोह भी इस भ्रस्ताचार रुपी काल के घेरे में आ जायेंगे और हमारा देश अंधकारमय हो जायेगा,इसलिए हमको चुप ना रहकर रिश्वत मांगने वालो के खिलाफ शिकायत करना होगी,हमें अपनी आने वाली युवा पीड़ी को एक नयी और अच्छी राह दिखानी चाहिए,उन्हें इन चीजो का कड़ा विरोध करना चाहिए तोह देखिये की कैसे हमारा देश वाकई में सोने की चिड़िया वाला देश बन जाता है,

अगर भारस्ताचार दूर हो गया तोह आप देखोगे की हमारे देश में कैसे धीरे धीरे गरीबी दूर हो गयी क्योकि लोग चन्द पैसे बचाने के लिए टैक्स जमा नहीं करते,और चन्द पैसे कमाने के लिए बेचारे गरीब लोगो को लूटते है,ये पैसा हमारे देश को खोकला कर देता है और हमारे देश में गरीबी आ जाती है.

हमें एक अच्छी सोच रखने की जरुरत है तब हम एक नए भारत की उम्मीद कर सकते है.हमें bhrastachar ki samasya को जड़ से ख़त्म करने की जरुरत है,क्योकि जब तक हमारे देश में भ्रस्ताचार है,तब तक हमारा देश अँधेरे में है,और उसका कोई भविष्य उज्जवल नहीं है,आजकल के नोजवानो को एक अच्छी सोच के साथ इस भारस्ताचार को दूर करना चाहिए.

मेने देखा है की आजकल के कुछ युवा तोह ऐसे है जो सोचते है की अगर हम कोई अच्छी जॉब करेंगे तोह ऊपर की कमाई करने का मौका मिलेगा,अगर हमारे देश के युवाओ की ऐसी सोच होगी तोह में आपसे सिर्फ यही कहूँगा की हमारा भारत देश एक बहुत बड़े संकट में है,अगर युवा भी ऐसा सोचेंगे तोह हमारा देश आगे नहीं बड पायेगा,इसलिए हर किसी को भ्रष्टाचार से दूर रहना चाहिए और अगर कोई भ्रस्ताचार करता है तोह उसको कड़े से कड़ी सजा दिलवाने की कोशिश करनी चाहिए जिससे और कोई ऐसा कदम ना उठा सके.

दोस्तों आज की मेरी ये पोस्ट Bhrastachar Essay in Hindi मेरी खुद की एक सोच है,वाकई में हमारे देश का भविष्य संकट में है,अगर हम कुछ उम्मीद कर सकते है तोह सिर्फ इतना कर सकते है की हो सकता है की नरेन्द्र मोदी जी के द्वारा १००० और ५०० रूपये की नोटबंदी के बाद हमारे देश में भ्रष्टाचार कम या ख़त्म हो जाए.

अगर आपको हमारी ये पोस्ट Bhrashtachar Ek Samasya Essay(nibandh) in Hindi पसंद आई हो तोह इसे शेयर जरुर करे और हमारी अगली पोस्ट सीधे मेल द्वारा पाने के लिए हमें subscribe करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.