भेड़िया और चरवाहा

हेलो फ्रेंड्स कैसे हो आप सभी,आज की हमारी कहानी आप सभी को बहुत ही प्रेरित करेगी दोस्तों काफी समय पहले एक गांव में एक  चरवाहा रहता था जो अपनी बकरियों को जंगल में चराने के लिए ले जाता था लेकिन वह अपने काम से खुश नहीं था इसलिए वह कभी-कभी बहुत ही शरारतें करता था.

एक दिन उसने जोर से चिल्लाना शुरु किया भेड़िया आया भेड़िया आया उसकी आवाज सुनकर खेतों में काम कर रहे किसान उसके पास आ गए, उस लड़के ने उन किसानों का बहुत मजाक उड़ाया,किसानों ने देखा कि वहां पर कोई भी भेड़िया नहीं था किसान उस लड़के से कुछ बात कह कर वहां से चले गए,कुछ दिनों बाद वह लड़का फिर से चलाया भेड़िया आया भेड़िया आया बेचारे किसान इस बार भी उस लड़के की बकरियों की सुरक्षा के लिए वहां पर आ गए और उस लड़के ने उन किसानों की हंसी उड़ाई दोस्तों दो तीन बार ऐसा करने के कारण किसानों को बहुत बुरा लगा. अब ऐसे ही दिन निकल रहे थे कि एक दिन उस जंगल में सचमुच भेड़िया आ गया.
जब उस लड़के की नजर उस पर पड़ी तो उसने जोर से चिल्लाना शुरु कर दिया लेकिन उसकी आवाज किसानों तक पहुंचने के बावजूद भी किसानों ने उनकी आवाज को अनसुना कर दिया क्योंकि वह यही समझने लगे कि इस बार भी वह लड़का हमको मूर्ख बना रहा है और उस जंगल में भेड़िए ने उस चरवाहे लड़के की सारी बकरियों को मार डाला और उस लड़के को अपने उन किसानों को मूर्ख बनाने की बात पर बेहद पछतावा हुआ,वह सोचने लगा कि अगर मैं किसानों को मूर्ख नहीं बनाता तो वह मेरी आवाज सुनकर आज मेरी मदद करने के लिए जरूर आते.दोस्तों इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि अगर जिंदगी में हमको हमारी मुसीबत को दूर करना है तो हमें इस तरह के मजाक को नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर हम झूठ बोलते हैं तो कोई भी व्यक्ति हमारी बात नहीं मानता और अगर हम कभी सच भी बोलें तो भी वह हमारी बात को अनदेखा कर देता है इसलिए हमेशा सच बोलें अगर आपको हमारी यह कहानी पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.