घोड़ा और भैंस की जैसी करनी वैसी भरनी पर कहानी “Jaisi karni waisi bharni kahani in hindi”

Jaisi karni waisi bharni kahani in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज की हमारी कहानी घोड़ा और भैंस की कहानी आप सभी को बताएगी कि जैसा हम जीवन में किसी दूसरे के साथ करते हैं वही हमारे साथ होता है.
दोस्तों काफी समय पहले की बात है एक जंगल में एक भैंस रहती थी.एक दिन उसकी मुलाकात एक घोड़े से हो गई अब घोड़ा और भैंस दोनों साथ साथ रहने लगे, साथ साथ भोजन करते,साथ साथ जंगल में घूमते.वह बहुत ही अच्छे मित्र बन गए.

Jaisi karni waisi bharni kahani in hindi


एक दिन किसी बात को लेकर उन दोनों में लड़ाई हो गई उस लड़ाई में भैंस ने अपने सींगों के द्वारा उस घोड़े को मारा.घोड़े को बहुत ही गुस्सा आया उसने सोचा क्यों ना मैं इस भैंस को मजा चखाउ.वह किसान के पास गया और कहने लगा की आप उस भैंस को पकड़ लो वह भैंस आपके बड़े काम की है,वह आपको दूध देगी उसका दूध बहुत ही स्वादिष्ट है वह बहुत दूध देती है आपकी बहुत ही मदद करेगी.बस इसके लिए आपको मेरी पीठ पर बैठ कर एक लाठी लेकर उस भैंस को पीट कर उसको बंधक बनाना पड़ेगा.किसान घोड़े की बात सुनकर बहुत ही खुश हुआ और घोड़े की पीठ पर बैठकर उस भैंस के पीछे दौड़ कर उसकी पिटाई करने लगा.

बेचारी भैंस नीचे गिर गई और उस किसान ने भैंस को बंधक बना लिया और उसको अपने साथ ले गया.तब उस घोड़े ने उस किसान से कहा कि अब तुम मुझे छोड़ दो तो वह किसान बोला कि जिस तरह से भैंस मुझे दूध देगी वह मेरे लिए बहुत ही उपयोगी है उसी तरह से तुम भी मेरे लिए बहुत ही जरूरी हो तुम भी मुझे अपनी पीठपर बिठालकर कहीं पर घुमाने के लिए ले जा सकते हो इसलिए मैं तुम्हें भी नहीं छोडूंगा,तुम्हें भी अपने साथ रखूंगा. घोड़े को दुख हुआ कि वह भी भैंस की तरह उस किसान का बंधक बन गया. दोस्तों वाकई में हम इस घोड़े की तरह अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ कुछ गलत करने की कोशिश करते हैं तो हमें भी परेशानी का सामना करना पड़ता है इसलिए हमें अपने दोस्तों को कभी भी धोखा नहीं देना चाहिए.

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Jaisi karni waisi bharni kahani in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना ना भूले और हमें कमेंट्स के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.