पुस्तक मेला पर निबंध “Pustak mela nibandh in hindi”

Pustak mela nibandh in hindi

Pustak mela essay in hindi-हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल Pustak mela nibandh in hindi आपके लिए बहुत ही प्रेरणादायक साबित होगा दोस्तों वाकई में पुस्तक मेला Hindi essay लिखना या पढ़ना बहुत ही मनोरंजक साबित होता है क्योंकि इससे हमें हमारे बचपन के दिन भी याद आते हैं वैसे तो बड़े लोग भी मेले में जाते हैं लेकिन बच्चे इस मेले का कुछ अलग अलग ही आनंद पाते हैं,आज के हमारे इस आर्टिकल पुस्तक मेला पर निबंध मैं आप सभी को पुस्तक मेला के बारे में जानकारी देगा चलिए पढ़ते हैं हमारे इस आर्टिकल को

Pustak mela nibandh in hindi
Pustak mela nibandh in hindi

पुस्तकें हमारे लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है आज हम जो भी हैं उनमें सबसे ज्यादा योगदान इन पुस्तकों का ही है.पुस्तकें हमको ज्ञान देती हैं हमको संस्कार देती हैं हमको प्राचीन काल के बारे में विस्तृत जानकारी देती हैं हमको जिंदगी जीने की प्रेरणा देती हैं. पुस्तके ही हमको इतना ज्ञानवान बनाती हैं कि हम जीवन में कुछ भी कमाने लायक बन सके हमारे जीवन में शुरू से ही पुस्तकों का बड़ा ही महत्व रहा है.इंसान आते-जाते रहते हैं लेकिन उनके द्वारा बताई हुई अनमोल बातें हमको पुस्तकों के द्वारा ही मिलती है जिसे हम जीवन में अपना कर कुछ बड़ा बदलाव ला सकते हैं इसी तरह पुस्तक मेला भी हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि एक ही जगह बहुत सारी पुस्तकों का मिलना थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन पुस्तक मेला में सभी तरह की पुस्तकें हमको देखने को मिलती हैं हम अपनी इच्छा के अनुसार इन पुस्तकों का मूल्य चुकाके पढ़ने के लिए ले सकते हैं. हम उन पुस्तकों को देख परख सकते हैं उनमें क्या लिखा है अंदर से जानकारी लेकर खरीद सकते है जब भी पुस्तक मेला लगता है तो मैं वहां पर जरूर जाता हूं .

आजसे कुछ समय पहले हमारे शहर में भी एक बहुत बड़ा मेला लगा हुआ था जिसके लिए मैंने अपने दोस्तों को साथ चलने को कहा लेकिन कुछ कारणवश मेरे दोस्त मेरे साथ नहीं आएं,मेने अपने परिवार वालों से चलने का विचार किया जिस दिन मेला लगा हुआ था उस दिन हम सुबह जल्दी तैयार हो गए.मैं बहुत ही उत्साहित था नई नई पुस्तकों को देखने के लिए. हम एक वाहन के द्वारा अपने घर से निकल पड़े जैसे ही उस मेला वाली जगह पर पहुंचे तो हमने देखा और तरह-तरह की पुस्तके सजे हुए हैं जिनमें चारों तरफ पुस्तकें रखी हुई है मैंने एक दुकान के पास जाकर देखा तो उस दुकान पर तरह तरह की पुस्तकें थी जैसे जीव विज्ञान कृषि अकबर बीरबल और गीता पुराण जैसी बेहतरीन किताबे।

Related-मेला पर एक निबंध

हम पुस्तकों को एक-एक करके निकाल कर देख रहे थे तभी मेरी बहन ने मुझसे बीरबल की कहानियां वाली किताब लेने के लिए कहा मैंने वह किताब ले ली दरअसल छोटे बच्चों को इस तरह की मनोरंजक किताबे बेहद पसंद हैं इसके बाद हम दूसरी दुकान पर गए वहां पर भी श्री कृष्ण की किताब बहुत पसंद आई,मेरे पापा जी ने लगभग 5 मिनट तक उस किताब को इधर-उधर पलट कर देखा उसके बाद उसके दाम चुका कर उसको ले लिया दरअसल मेरे पापा एक धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं उन्हें इसमें बड़ी ही रुचि है उसके बाद वहां पर उपस्थित मेरी मम्मी ने भी घर में खाना बनाने वाली एक किताब ली इस तरह से हमने बहुत सी किताबे अपनी जरूरत के हिसाब से ली फिर हम वहां पर उपस्थित नाश्ते की दुकान पर चले गए वहां पर मैंने अपने परिवार के साथ नाश्ता किया बाहर खाना खाने में बड़ा ही अच्छा लगता है.

हमने वहां से जाने का सोचा हम जैसे ही वापस जा रहे थे तभी हमने देखा कि कुछ दुकानदार हमें अपनी किताबें खरीदने के लिए पुकार रहे हैं मैंने एक दुकान पर जाने का सोचा वहां से मैंने एक और अपने मनपसंद की विज्ञान की किताब खरीदी इस तरह से किताबे लेते हुए हम अपने घर की ओर चल पड़े,घर पर आकर हमने पुस्तक मेला में ली गई पुस्तकों को पड़ा और मेरा ये शौक है की मैं किताब को लगातार पढ़ता हूं जब तक वह पूरी नहीं होती है तब तक मैं उसको पड़ता ही रहता हूं,मैंने एक किताब अपने दोस्त को भी पढ़ने के लिए दी थी उस को बेहद दुख था कि वह पुस्तक मेला में नहीं जा पाया. दोस्तों इस तरह से मैंने अपने पूरे परिवार के साथ पुस्तक मेला का आनंद लिया और वहां से बहुत सी किताबें खरीदी।

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Pustak mela essay in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना न भूले और कमेंट के जरिए बताएं कि हमारा यह आर्टिकल Pustak mela nibandh in hindi आपको कैसा लगा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.