छोटे बच्चे की ताक़त “Very motivational story in hindi”

दोस्तो आज का हमारा आर्टिकल आप सभी को बहुत ही प्रेरणा देगा.दोस्तों कहानियां हमें बहुत सी ऐसी सीख दे जाती हैं जिससे हम जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित होते हैं आज की भी हमारी ये कहानी आप सभी को कामयाबी का एक नया तरीका बताएगी.
Very motivational story in hindi
दोस्तों एक गांव में दो दोस्त रहते थे,उनके बीच में बहुत ही गहरी मित्रता थी.वह हमेशा साथ में खेलते,साथ में खाना खाते,साथ में स्कूल जाते थे,वह हर काम हमेशा साथ में करते थे इन दोनों में से एक की उम्र थी 10 साल और दूसरे की थी 5 साल.एक दिन वह अपने स्कूल से साथ में घर की ओर चले आ रहे थे तभी रास्ते में अचानक एक दोस्त जिसकी उम्र 10 साल थी वह कुएं में गिर गया.
कुएं में गिरने के बाद छोटा लड़का जो 5 साल का था वह अपने दोस्त को कुएं से बाहर निकालने के लिए इधर-उधर मदद के लिए पुकारने लगा लेकिन उसकी आवाज सुनकर कोई भी मदद के लिए नहीं आया दरअसल उस कुए से गांव थोड़े दूर था वहां तक उसकी आवाज नहीं पहुंच पाई.उस 5 साल के छोटे से लड़के ने सोचा कि मुझे अपने दोस्त की किसी तरह से मदद करना चाहिए मुझे अपने दोस्त को कुए से बाहर निकालना चाहिए.दोस्तों उस लड़के ने यह सोचकर पास में रखी रस्सी से बंधी हुई बाल्टी को उस कुएं में फेंक दिया और अपने दोस्त से कहने लगा कि इस रस्सी को पकड़ ले मैं तुझे ऊपर खींच लूंगा.
दोस्तों उस 5 साल के छोटे से लड़के ने अपने दोस्त की जान बचाने के लिए पूरी ताकत लगा दी उसको कुए से बाहर निकालने के लिए उसने पूरी ताकत से उस रस्सी को खींचा आखिर काफी देर कोशिश करने के बाद उसका दोस्त कुए से बाहर निकल गया.दोस्तों अब वो दोनों बहुत ही खुश थे.
अब वह दोनों अपने गांव की ओर चल पड़े.जब वह अपने गांव पहुंचे तो उन्होंने अपने साथ घटी हुई वह घटना सुनाई तब सभी गांव के लोगों ने उनकी बात नहीं मानी और सभी कहने लगे कि एक छोटा सा बच्चा कैसे एक १० साल के लड़के को कुए से बाहर निकाल सकता है उससे तो एक बाल्टी भी नहीं निकली जा सकती. किसी ने भी उनकी बात नहीं सुनी लेकिन उनमें से ही एक बुजुर्ग व्यक्ति जो पास में ही बैठा था.उसने उन दोनों बालकों की बात सुनी और कहा कि हां यह हो सकता है.
गांव के सभी लोग उस बुजुर्ग व्यक्ति को बेहद मानते थे वह गांव के लोग उस बुजुर्ग व्यक्ति के पास गए और कहने लगे कि आप इन दोनों बच्चों की बात पर यकीन क्यों कर रहे हैं.ये झूठ बोल रहे हैं यह तो हो ही नहीं सकता कि छोटा सा 5 साल का बच्चा उस 10 साल के बच्चे को कुए से निकाल सकें तब वह बुजुर्ग व्यक्ति उन गांव वासियों से कहने लगे कि यह हो सकता है.दरअसल जब वह छोटा सा 5 साल का बच्चा अपने दोस्त को रस्सी से खींच रहा था तब उसके आसपास कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं था जो उससे कह सकें की तू कर नहीं सकता,तुझमें इतनी क्षमता नहीं है कि तू अपने दोस्त को कुए से बहार निकाल सके.उससे मना करने वाला कोई नहीं था इसलिए इस छोटे बच्चे ने अपने दोस्त को बाहर निकालने के लिए पूरा जोर लगा दिया और उसका दोस्त बच गया.
दोस्तों हम सभी की जिंदगी में भी ऐसा ही होता है हम अक्सर कुछ अच्छा करने की कोशिश करते हैं,जिंदगी में आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं लेकिन चारों ओर उपस्थित हमारे दोस्त या कोई भी हमसे इस बारे में कहते हैं कि तुम नहीं कर सकते हो तो हम पहले ही अपनी क्षमताओं को कमजोर समझने लगते हैं और जिंदगी में कुछ अच्छा करने के लिए पहल नहीं करते इसलिए दोस्तों जिंदगी में हम को अगर कुछ पाना है तो उसके लिए मेहनत करना चाहिए किसी दूसरे की बात ना सुनकर विश्वास के साथ काम शुरू करना चाहिए तभी हम आगे बढ़ सकते है.
Related: पुजारी और मूर्तिकार     ईमानदारी का फल पर कहानी

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Very motivational story in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें हमें कमेंट के जरिए बताएं कि आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.