अनुशासन पर स्वरचित कविता “Swarachit kavita on anushasan”

Swarachit kavita on anushasan

कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आप बहुत सी कविताएं पढ़ते होंगे जो आपको पसंद भी आती होंगी लेकिन आज की मेरी ये स्वरचित अनुशासन पर कविता हो सकता है आपको बहुत पसंद आये.दोस्तों हम सबके जीवन में अनुशासन का बड़ा ही महत्व है.हम अपने जीवन में अनुशासन अपनाकर हमेशा खुश रह सकते है और अनुशासन अपनाकर जीवन में एक सफल इन्सान भी बन सकते है.
Swarachit kavita on anushasan
Swarachit kavita on anushasan 

हमारे जीवन में अनुशासन नहीं हो तो जीवन यापन करना बहुत ही मुश्किल होता है,आज हम अनुशासन के ऊपर एक बेहतरीन अपनी खुद की लिखित कविता आप सभी के समक्ष प्रस्तुत करने वाला हु तोचलिए पढते हैं इस कविता को

जीवन में अगर खुश रहना है तो अनुशासन के साथ ही जीना है
अनुशासन जीवन में जरूरी है हम सबको अनुशासन के साथ ही जीना है
अनुशासन होगा तो देश महान होगा हर समय हर जगह देश का नाम होगा
हर परिवार  खुश रहेगा ना उसमें कभी दुख होगा
हर बच्चा जीवन में सफल होगा क्योंकि अनुशासन ही जीवन है
हमको अनुशासन में रहना होगा और देश को आगे बढ़ाना होगा
अनुशासन ही जीवन है हमको इसे अपनाना होगा
एक बच्चा जीवन में सफल होता है तो अनुशासन से ही जीता है
किसी ने अगर तोड़ा अनुशासन तो जीवन में हमेशा दुःख होगा.
हमको अनुशासन में जीना होगा जीवन में खुशहाली लाना होगा
अनुशासन ही खुशहाली है अनुशासन हमारे लिए जरुरी है
बच्चे बूढ़े नौजवानों को सबको अनुशासन अपनाना होगा तभी हमारा देश सबसे आगे होगा.
दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूले और हमे कमेंट्स के जरिये बताएं कि आपको हमारी Swarachit kavita on anushasan कैसी लगी.अगर आप हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना चाहे तोह हमें सब्सक्राइब जरुर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.