चिंटी और चिड़िया की कहानी Chiti aur chidiya ki kahani

Chiti aur chidiya ki kahani

दोस्तों कुछ कहानिया होती हैं जो हमें कुछ ऐसी सीख दे जाती हैं जिससे हम अपने जीवन में आने वाली परेशानी से बच सकते हैं.आज भी हम आपके लिए एक ऐसी ही कहानी Chiti aur chidiya ki kahani लाये है तो चलिए पढ़ते हैं हमारी आज की इस प्रेरणादायक कहानी को और अपने जीवन में लाभ उठाये.

Chiti aur chidiya ki kahani
Chiti aur chidiya ki kahani

काफी समय पहले एक चींटी और चिड़िया आपस में दोस्त थे.चींटी समझदार थी वह अपने भविष्य के लिए खाना बचा बचा कर रखती थी लेकिन चिड़िया सिर्फ अपने अभी के बारे में सोचती थी वह अपने भविष्य के बारे में नहीं सोचती थी.एक दिन उस चीटी ने अपनी दोस्त चिड़िया से कहा कि तुम भी मेरी तरह भविष्य के लिए कुछ भोजन बचा कर रखा करो जिससे तुम्हें परेशानी का सामना करना ना पड़े लेकिन उस चिड़िया ने उसकी बात नहीं मानी और वहां से चली गई.एक दिन उस जंगल में बहुत जोर की बरसात आ गई.काफी दिनों तक पानी बरसता रहा तो चिड़िया अपने घोंसले से भोजन जुटाने के लिए कही आ न जा सकी.उसको बहुत जोर की भूख लगी थी वह अपने बच्चों को भी भोजन कराना चाहती थी लेकिन भोजन उसके घोसले में नहीं था और पानी बरसने के कारण वह अपने घोंसले से दूर भी नहीं जा सकती थी वह और उसके बच्चे भूख के मारे तड़पने लगे इसलिए फिर उसको अपनी दोस्त की बात याद आई लेकिन अब वो चिड़िया कर भी क्या सकती थी वो सिर्फ पछताती रही इसलिए दोस्तों हमको भविष्य के लिए भी कुछ करना चाहिए,अपने उज्जवल भविष्य के लिए पहले से ही प्लानिंग बनाना चाहिए,हमें सेविंग भी करना चाहिए जिससे आने वाली मुसीबत से हम बच सके.

Related-तीन मछलियां और तालाब Three fishes story from panchatantra

दोस्तों अगर आपको हमारी ये कहानी Chiti aur chidiya ki kahani पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस कर यह बताएं कि आपको हमारी ये कहानी कैसी लगी.अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.