आँखों देखी दुर्घटना निबंध Hindi essay on aankhon dekhi durghatna

Hindi essay on aankhon dekhi durghatna

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल Hindi essay on aankhon dekhi durghatna आप सभी को अपनी जिंदगी में बेहद सावधानी बरतने की जानकारी देगा दोस्तों जैसे की हम सभी जानते हैं कि आज के जमाने में इस वेज्ञानिक युग में तरह-तरह के हमारी जरूरत के लिए वाहन या मोबाइल,ऑटो मोबाइल और भी बहुत सारे साधन हमारी हेल्प के लिए बनाए गए हैं लेकिन अगर हम इन चीजों का सही से उपयोग ना करें या इसका कुछ ज्यादा ही उपयोग करें तो वाकई में ये सभी हमारे लिए बहुत ही ज्यादा दुख देने वाले साबित हो सकते हैं.

Hindi essay on aankhon dekhi durghatna
Hindi essay on aankhon dekhi durghatna

आज हमारे देश में वाहनों का उपयोग तेजी से किया जा रहा है वहीं दूसरी ओर वाहनों से एक्सीडेंट भी बहुत होते हैं.जब हम अखबार,TV मे एक्सीडेंट के बारे में सुनते हैं तो हमें कुछ भी अजीब नहीं लगता क्योंकि यह सब हम रोज ही नहीं सुनते.आज के हमारे इस जमाने में हमें बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है आज आप घर से जाते हो तो कोई भी भरोसा नहीं होता कि आप शाम तक वापस आओगे या नहीं क्योंकि हो सकता है आप गलती ना करो लेकिन कोई दूसरा व्यक्ति गलती कर जाए तो आपको जीवन में दुखों का सामना करना पड़े.दोस्तों मेरी बातो का बुरा मत मानना में सिर्फ आपको जानकारी दे रहा हु जिससे आप अपने जीवन में सुरक्षित रह सके.

दोस्तों आजका हमारा आर्टिकल आँखों देखि दुर्घटना मेरे सामने कुछ समय पहले हुयी दुर्घटना के बारे में जानकारी देगा.

दोस्तों एक दिन में अपने शहर से किसी दूसरे शहर जाना था तो मुझे अपनी बाइक में पेट्रोल डलवाना था तो मेरे घर के पास में एक पेट्रोल पंप है मैंने वहां पर ट्राई किया तो कुछ ज्यादा भीड़ लग रही थी तो मैंने सोचा चलो रास्ते में पेट्रोल डलवायेंगे फिर में अकेला ही अपने शहर से दूसरे शहर जाने लगा तो रास्ते में मुझे एक पेट्रोल पंप दिखाई दिया मैंने सोचा कि चलो पैट्रोल भरवा ले तो मैंने पेट्रोल पंप पर पेट्रोल भरवाया तो दोस्तों जैसे ही मैं वहां से बाहर निकला तो मैंने देखा की सामने से एक मोटरसाइकिल आ रही थी और 3 लोग जो की मोटरसाइकिल पर सवार थे बहुत ही तेजी से मोटरसाइकल चलाए जा रहे थे एक दम से ही सामने से आने वाले टैक्टर वाले ने पेट्रोल पंप की तरफ ट्रेक्टर मोड़ा और मोटरसाइकल ट्रेक्टर से भिड गयी और एक भयानक एक्सीडेंट हो गया.मैं जब तक वहां पहुंचता तब तक वहां पर चारों ओर भीड़ लग चुकी थी किसी ने पुलिस और एम्बुलेंस को सूचित किया तभी कुछ समय बाद एंबुलेंस आ गई.एक आदमी तो वहीं पर मर चुका था लेकिन दूसरा आदमी बुरी तरह से कांप रहा था और जो तीसरा था उसका पैर टूट चुका था दोस्तों एक्सीडेंट बहुत ही भयानक था जब मैंने भीड़ में से इस एक्सीडेंट को देखा तो मुझे बहुत ही बुरा लगा.मेने सोचा की लोग क्यों सावधानी से टैक्टर या बाइक नहीं चलाते.मैंने देखा कि एंबुलेंस से कुछ लोग निकले और उनको एंबुलेंस में रखकर ले जाने लगे.

दोस्तों मैं देख रहा था की सड़क पर बहुत ही खून फैला हुआ था उस दिन मेरा बहुत ही दिमाग खराब हो गया यह सब देखकर मेरा माइंड डिस्टर्ब हो गया था.मैंने इससे पहले कभी एक्सीडेंट नहीं देखा था इन तीनों लोगों के साथ में ट्रैक्टर के ड्राइवर को भी बेहद गंभीर चोटें आई थी उसको भी अस्पताल में ले जाया गया था और वो तीन लोग जो बाइक पर सवार थे उनकी बाइक टूट चुकी थी एक्सीडेंट बहुत ही भयानक था.मैं कुछ समय तक वहां पर रुका लेकिन मैं जिस काम से दूसरे शहर जा रहा था लेकिन अब मेरा वहां जाने का मन बिल्कुल नहीं किया.मैं अपने शहर बापस आया और पास के हॉस्पिटल में देखने के लिए गया दोस्तों मैंने देखा कि उस हॉस्पिटल में इस तरह के बहुत से एक्सीडेंट केस थे इन्हें देखकर मुझे बहुत ही दुख हुआ और उसी समय से मैंने दिल से निश्चय किया कि आज के बाद मैं भी बहुत ही सावधानी से अपनी बाइक चलाऊंगा कुछ ही देर बाद मैंने देखा कि हॉस्पिटल में उन लोगों के परिजन मिलने के लिए आए मैंने देखा कि जिस व्यक्ति की मौत हो चुकी थी उसके परिवार वाले बहुत ही तेजी से रो रहे थे.

Related- डॉक्टर एक समाजसेवक निबंध doctor ek samaj sevak essay in hindi

यातायात के नियम पर निबंध Yatayat ke niyam essay in hindi

मुझे बहुत दुख था कि आखिर एक व्यक्ति की सजा उसके पूरे परिवार को मिल रही है और बाकी का जिसका पैर टूट चुका था उसके परिवार वाले भी बेहद चिंतित लग रहे थे अब वह अपने काम को नहीं कर पाएगा.कुछ समय बाद वहां पर अखबार वाले भी आ गए थे उन लोगों ने भी इस घटना की पूरी जानकारी ली यह सब देखकर कुछ समय बाद मैं अपने घर की ओर चला गया.

दोस्तों वाकई में हमको इस आधुनिक युग में वाहनों का उपयोग कम करना चाहिए और वाहनों के उपयोग पर सावधानी बरतनी चाहिए.हमें सोचना चाहिए कि जिन वाहनों का हम उपयोग कर रहे हैं अगर हमारी भूल के कारण एक्सीडेंट हो जाए तो इससे बहुत सारे लोगों का नुकसान हो सकता है हमें अपने परिवार वालों का,दूसरों के बारे में सोचकर उन लोगों की तरह शराब पीकर गाड़ी बिल्कुल नहीं चलाना चाहिए इसी में हम सबकी भलाई है.अगर हमको कहीं पर जाना है तो हम सावधानीपूर्वक धीमी गति से वाहन चलाएं क्योंकि धीमी गति से वाहन चलाने से अगर कोई सामने वाला वाला गलती करता हैं तो आप उसको कुछ हद तक संभाल सकते हो लेकिन अगर आप भी तेज गति से वाहन चला रहे हो तो फिर उसको संभालना आपके लिए मुश्किल होता है इसलिए सावधानीपूर्वक वाहनों को चलाना चाहिए और ट्रैफिक रूल्स का पूरी तरह से पालन करना चाहिए इसी में हम सब की भलाई है.

दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Hindi essay on aankhon dekhi durghatna पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना न भूले और हमें कमेंटस करके बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल Hindi essay on aankhon dekhi durghatna कैसा लगा.अगर आप चाहे हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरुर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.