जब मुझे पुरस्कार मिला Jab mujhe puraskar mila paragraph in hindi

Jab mujhe puraskar mila paragraph in hindi

दोस्तों कैसे हैं आप सभी,आज का हमारा आर्टिकल Jab mujhe puraskar mila paragraph in hindi मेरे खुद के पर्सनल एक्सपीरियंस के ऊपर है दोस्तों जब हमारे साथ कुछ भी पहली बार होता है तो हमें कुछ अजीब सा लगता है कुछ अच्छा लगता है ऐसा ही मेरे साथ आजसे कुछ समय पहले हुआ था जब मुझे पुरस्कार मिला.

Jab mujhe puraskar mila paragraph in hindi
Jab mujhe puraskar mila paragraph in hindi

दरअसल मैं आठवीं क्लास में पढ़ाई करता था मैंने उस समय स्कूल की एक लेखन प्रतियोगिता में भाग लिया था जिसमे मैंने जीत प्राप्त की थी उस स्कूल की प्रतियोगिता में मेरे साथ बहुत सारे मेरे दोस्तों ने भी भाग लिया था.प्रतियोगिता ख़त्म होने के बाद एक दिन निश्चित किया गया कि उस दिन परिणाम घोषित किया जाएगा हम सभी दोस्त सुबह जल्दी स्कूल पहुंच गए और जब नाम अनाउंस किया गया तब हमें काफी उत्सुकता थी हम सभी एक दूसरे से बातें कर रहे थे और अपनी अपनी प्रशंसा किए जा रहे थे की यह पुरस्कार मुझे मिलेगा जब हमारे अध्यापक ने मेरा नाम अनाउंस किया तो मुझे इतनी खुशी हुई कि मेरी खुशी मुझसे संभल नहीं पा रही थी मैं एकदम खुश हुआ और दौड़ते हुए अपने अध्यापक के पास गया.अध्यापक ने मुझे कुछ तोहफा दिया और पुरस्कार दिया और इनाम के रूप में ₹ 5000 रूपये दीए.मैं यह सब हासिल करके बहुत खुश था क्योंकि मुझे पूरे स्कूल के सामने सम्मानित किया जा रहा था वाकई में हमारे जीवन के कुछ ऐसे ही पल होते हैं जो हमें खुशी देते हैं जिन्हें याद करके हमें अपने आप पर गर्व होता है.

Related-मेरे बचपन के दिन पर निबंध

दोस्तों अगर आपको हमारा आर्टिकल Jab mujhe puraskar mila paragraph in hindi पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंटस के जरिये बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा.अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल कर पाना हो तो हमे सब्सक्राइब  जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.