मेरी नानी पर निबंध Meri nani maa essay in hindi

Meri nani maa essay in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल meri nani maa essay in hindi आप सभी को अपने बचपन की याद दिला देगा दोस्तों हमने इससे पहले भी आप सभी के समक्ष बहुत सारे निबंध प्रस्तुत किए हैं आज भी हमारा यह निबंध काफी खास है दोस्तों चलिएपड़ते हैं नानी पर निबंध

Meri nani maa essay in hindi
Meri nani maa essay in hindi

इस दुनिया में एक रिश्ता होता है नानी का.यह रिश्ता हर किसी के जीवन के लिए सबसे खास और यादगार रिश्ता होता है दोस्तों अक्सर हम बचपन में अपनी माँ के साथ नानी के पास जाया करते थे और हमें वहां पर बहुत से रिश्तेदार मिलते थे जैसे कि मामा-मामी,नाना-नानी इन सभी रिश्ते में अगर कोई बेहद खास रिश्ता होता है वह होता है नानी का क्योंकि नानी हमारी खुशी के लिए,हमारी जरूरत के लिए कुछ भी कर सकती थी अक्सर जब मैं नानी के पास जाया करता था तो मेरी नानी मुझे अपने पास सुलाती थी,मुझे लोरी और कहानियां सुनाती थी और मुझे बहुत अच्छा लगता था.मैं चाहता था कि मैं वहीं पर बहुत समय तक रुकू लेकिन आखिर मैं वापस अपने घर पर ही आ जाता था.मैं सोचता था कि मैं अगर नानी के पास ज्यादा समय रुकू तोह नानी मुझे अच्छी अच्छी कहानियां सुनाएगी.अक्सर में जब अपनी मम्मी से कोई चीज पाने के लिए जिद करता हूं तो वह मेरी बात नहीं मानती लेकिन मेरी नानी ऐसी है कि मुझे जिद पकड़ने की जरूरत नहीं पड़ती,मेरे कहने पर मेरे सामने तो सब कुछ प्रस्तुत कर देती है वाकई में हर नानी मेरे ख्याल से ऐसी ही होती है.जब मेरी नानी मेरे घर पर रुकने के लिए आती है तो वह पल मेरे लिए बेहद खास होता है.मैं बहुत ही खुशी महसूस करता हूं और मैं दिन भर रात भर अपनी नानी के साथ समय बिताना चाहता हूं क्योंकि नानी और मेरा रिश्ता कुछ है.

अक्सर हम किताबों में बहुत सी नाना नानी की कहानियां पढ़ते हैं मुझे भी नानी की कहानियां बहुत पसंद है.मेरी नानी मेरे लिए बेहद खास है.जब भी मेरी मम्मी मुझको गुस्सा करती है तो मैं अपनी नानी से कहता हूं और मेरी नानी मेरी मम्मी पर गुस्सा करती है.दोस्त वाकई में हमारी नानी ऐसी होती है जो अपनी लड़की के बच्चे से बेहद लगाव रखती है,वह अपनी लड़की के बच्चे के लिए कुछ भी करती है.वह कभी भी झूठ बोलने से भी नहीं चूकती क्योंकि उसके लिए अपनी लड़की के बच्चे सब कुछ होते हैं.नानी कुछ ऐसी होती है कि अगर किसी कारणवश खुद को खाना ना मिले तो भी खाना खिलाना चाहती है क्योंकि नानी का संबंध ही कुछ ऐसा होता है.नानी में बहुत सारे गुण होते हैं जैसे की दयालुता यानी हमारी नानी दयालु होती है अगर बच्चे कुछ भी गलत कर देते हैं तो वह उसको माफ कर देती है और ज्यादातर वह मुझपर गुस्सा नहीं करती है.
नानी मैं दयालुता के साथ में शिक्षा देने की भी प्रवृत्ति होती है.नानी कहानियों के माध्यम से,तरह-तरह के वर्तान्तो के माध्यम से बच्चों को अच्छी शिक्षा देती है,उनको गुणवान बनाती है,उनमे अच्छे अच्छे संस्कार प्रदान करती है,उनको हमेशा खुश रखती है.अगर कोई सा बच्चा कुछ गलत करे तो नानी उसको प्यार से समझा देती है,वह उनको अच्छे माहौल में डालना चाहती है.अगर कोई भी बच्चा गलत रास्ते पर चलता है और नानी को पता लगता है तो नानी उस बच्चे को सही मार्ग पर चलने की सलाह देती है यही एक नानी का कर्तव्य होता है यानी हमारी मम्मी की मां हमारी नानी वास्तव में हमारी माँ के बराबर होती है क्योंकि हमारी मां अगर हमको सिखाने में कुछ कमी रखती है लेकिन हमारी नानी हममें कभी भी कमी नहीं रखती है,वह हर ज्ञान बच्चों को देती है जो उसके लिए जरूरी होता है.बच्चों के लिए नानी का रिश्ता भी बहुत जरूरी है क्योंकि नानी हमें हर तरह से शिक्षा देती है.

आज के इस जमाने में जहां पर लोगों के पास बहुत ही कम समय बच पाता है जरूरी है कि मां बाप अपने बच्चों को उनकी नानी से कभी कभी मिलने के लिए जरुर ले जाएं और अगर किसी कारणवश वोह उनके पास ना ले जा पाए तो उनकी फोन पर बात करवाएं या फिर विडियो कॉलिंग के जरिए मुझसे चैटिंग करवाएं जिससे बच्चों का भी मन लगे या आप बच्चों की नानी को कभी कभी अपने यहां पर आने के लिए न्योता जरूर दें जिससे आपके बच्चों को उनके साथ रहकर ख़ुशी मिल सके.

दोस्तों वाकई में हमारे जीवन में नानी का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता होता है जो हमारे लिए बहुत जरुरी होता है क्योंकि नानी हमारी मां की मां होती है जो कभी भी हमें जीवन में कुछ गलत नहीं करने देती,वह अपने बच्चों की हर जरूरत के हिसाब से जरूरतें पूरी करती है और उनको हमेशा खुश रखती हैं.बचपन में हर बच्चा अपनी नानी के पास जाने के लिए रोता है क्योंकि इसमें उन्हें ख़ुशी मिलती है और वह अपने बच्चे को प्यार के साथ कुछ ऐसे पेश आती है कि हर बच्चा अपनी नानी के पास जाना चाहता है,उनके साथ समय बिताना चाहता हैं क्योंकि नानी उनके साथ अपने बच्चों की तरह पेश आती हैं,नानी अपने बच्चो और अपनी लड़की के बच्चो के बीच कोई भी अंतर नहीं समझती.वह अपनी लड़की के बच्चों के साथ अपनी मां के समान ही व्यवहार करती है और मां के समान ही उनको समाज में एक अच्छा इंसान बनने की सलाह देती है यही हमारी नानी का कर्तव्य होता है.

दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Meri nani maa essay in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करूंगा और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूले और हमें कमेंट्स के जरिये बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल Meri nani maa essay in hindi कैसा लगा.अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरुर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.