दीप प्रज्वलन पर कविता Deep prajwalan kavita in hindi

Deep prajwalan kavita in hindi

हेलो फ्रेंड कैसे हैं आप सब दोस्तों आज की हमारी कविता Deep prajwalan kavita in hindi आप सभी को अपनी खुशी के पलों की याद दिला देगी दोस्तों जैसे कि हम सभी जानते हैं कि दिवाली नजदीक है और इस पावन मौके पर हम आपके लिए एक बेहतरीन कविता लेकर आए हैं इसे पढ़कर आप खुशी महसूस कर सकते हैं हम सभी दीवाली के मौके पर अपने घरों में दीपक रखते हैं जिससे हमारा घर प्रकाशमय होता है दीवाली के इस पावन मौके पर महसूस की जाने वाली ये ख़ुशी हमें हमेशा याद रहती है दरअसल हम सभी दिवाली के इस पावन मौके पर दीप प्रज्वलन श्री रामचंद्र जी के 14 बरस बाद अयोध्या वापस लौटने की खुशी में करते हैं चलिए पढ़ते हैं हमारी इस दीप प्रज्वलन पर लिखी गई कविता को

Deep prajwalan kavita in hindi
Deep prajwalan kavita in hindi

दीप प्रज्वलन होते हैं तो अंधेरे में उजियाला होता है. दीप प्रज्वलन से ही चेहरे पर खुशी झलकती है.
दीप प्रज्वलन से ही हर दिल में खुशी होती है. दीप प्रज्वलन से ही घर गलियारों में उजाला है.
और हर वर्ष दीवाली के मौके पर दीप प्रज्वलित होते हैं. गांव शहर के दरवाजे पर दीप प्रज्वलित होते हैं.
बच्चे बूढ़े और नौजवान खुशियों के गीत गाते हैं.वह इस पावन मौके का इंतजार हमेशा करते हैं.
उनके दिलों दिमाग में भी दीप प्रज्वलित होते हैं.घर गली मोहल्लों में भी दीप प्रज्वलित होते है.

Related- गुरु शिष्य परंपरा पर कविता guru shishya parampara par kavita

दोस्तों अगर आपको हमारा ये आर्टिकल Deep prajwalan kavita in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूले और हमें कमेंट के जरिए बताएं कि आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा.अगर आप चाहें हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाना है तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.