फेरीवाला पर निबंध Essay on feriwala in hindi

Essay on feriwala in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल Essay on feriwala in hindi आप सभी के लिए बहुत ही मददगार साबित होगा दोस्तों जैसे कि हमने बचपन में किताबों में पढ़ा है कि फेरीवाला कौन होता है और यह किस तरह से हमारे मोहल्ले में घूमते हुए हमको बहुत सारी चीजें उपलब्ध करवाता है आज हम हमारे इस आर्टिकल में पढेंगे फेरीवाले पर निबंध जिसका उपयोग बच्चे अपने स्कूल की परीक्षाओं में लिखने के लिए या जानकारी लेने के लिए कर सकते हैं.

Essay on feriwala in hindi
Essay on feriwala in hindi

फेरीवाला शहर या गांव में या गलियों में घूमने वाले वे लोग होते हैं जो अपने सामानों को गली गली जाकर बैचते हैं इन सामानों में तरह-तरह के सामान होते हैं इनमें फल फूल भी हो सकते हैं सब्जियां हो सकती हैं समोसे या चाट हो सकते हैं या फिर तली हुई चीजें चने वगैरह हो सकते हैं इन सामानों में खेल खिलौने या घर के कुछ निजी सामान भी हो सकते हैं.फेरीवाले गलियों में घूमने वाले इस तरह के सामान बेचने वाले लोग होते हैं और अक्सर हमारे गांव और शहर में समय समय पर आते रहते हैं और महिलाये उनका इंतजार भी करती रहती हैं कि कोई फेरीवाला आए और हम उसका सामान खरीदे क्योंकि फेरीवाला कुछ ऐसे सामान भी लाता है जो हमें बाजार से लाने में या बाजार से वह सामान ढूंढने में हमें थोड़ी सी परेशानी हो सकती है.

फेरीवाला आमतौर पर कमीज पजामा पहनता है और वह सर पर टोपी लगाए हुए रहता है लेकिन कभी-कभी जरूरी नहीं होता वह अपने सर पर टोपी लगाए.कुछ फेरी वाले हाथ में घंटी लिए हुए रहते हैं और वह लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए वह घंटी बजाते हैं और ज्यादा से ज्यादा लोग फेरीवाले के पास आकर उसके सामान को खरीदते हैं वैसे देखा जाए तो फेरीवाले के हमारे मोहल्ले में आने के कारण हमें काफी लाभ भी हैं लेकिन वहीं दूसरी और हमे कुछ नुकसान भी है अक्सर देखा जाता है कि फेरीवाला कुछ जरूरी चीजें लाता है जो घर में रहने वाले सदस्य जो बाजार में नहीं जा पाते फेरीवाले के कारन वह सामान घर पर ही उपलब्ध हो जाता है जिस वजह से कुछ लोग उनका शुक्रिया अदा भी करते हैं लेकिन कुछ जगह देखा जाता है कि फेरीवाले अपने सामानों को सही तरह से नहीं बेचते हैं वह अपने सामानों को दाम से कुछ अधिक मूल्य पर बेच देते हैं या फिर वह कुछ ऐसे सामान बेचते हैं जिनमें गंदगी होती है जैसे कि आप समोसे लेते हो तो हो सकता है उसमें मक्खियां आसपास भटक रही हो तो हम सभी को इस ओर ध्यान देने की जरूरत है और फेरीवाले से स्वच्छ चीजें ही हमें लेनी चाहिए और जिन वस्तुओ में गंदगी है उन चीजों को हमें नहीं खरीदना चाहिए.

Related-  बदलता भारत पर निबंध Badalta bharat essay in hindi

हमें अपने बच्चों का विशेषकर ख्याल रखना चाहिए कि वह फेरीवाले से जो भी खरीदें स्वस्थ खाने की चीजें खरीदें जिससे उन्हें किसी भी तरह की बीमारी का सामना ना करना पड़े क्योंकि अक्सर बच्चे किसी भी खाने वाली चीज को देखकर उसको खरीद कर खाना चाहते हैं वह नहीं सोच पाते कि ये वस्तु खाने लायक है या नहीं.अक्सर जब फेरीवाला हमारे मोहल्ले में आता है तो घंटी के साथ में आवाज भी लगाता है वह कई तरह से आवाजे लगा सकता है उसके पास जो भी वस्तु है वह उस वस्तु का नाम लेकर लोगों को बता सकता है जिससे लोग उस सामान को खरीदने के लिए आते हैं अक्सर मोहल्ले में देखा जाता है की फेरी वाले बहुत से खेल खिलौने ले आते हैं उन्हें जब बच्चे देखते हैं तो बहुत ही आकर्षित होते हैं और फेरीवाले को चारों ओर से घेर लेते हैं और साथ ही फेरीवाले से सामान खरीदने के लिए अपने मां-बाप से आग्रह करते हैं इस तरह से फेरीवाला हम सभी को तरह तरह की सेवाएं प्रदान करते हैं जो हम घर से ही ले सकते हैं.

ज्यादातर फेरीवाले स्कूल कॉलेज के आसपास घूमते हुए दिखाई देते हैं और वह अपने सामान की बिक्री करते हैं वह आवाज लगाते हैं और कॉलेज,स्कूल के स्टूडेंट्स को अपनी ओर आकर्षित करके अपने सामान की बिक्री करते हैं स्कूल के विद्यार्थी फेरीवाले को देखकर बहुत ही खुश होते हैं वह उसको चारों ओर से घेरकर उससे चीजें खरीदते हैं इस तरह से हम कह सकते हैं कि फेरीवाला बच्चे बूढ़े और महिलाओं के लिए अच्छी-अच्छी सेवाएं प्रदान करते हैं और लोग भी उन सेवाओं को पाकर खुश रहते हैं.
अक्सर देखा जाता है कि स्कूल के बच्चे फेरीवाले का इंतजार करते रहते हैं वह अक्सर अपने स्कूल के बहार आंखे लगाए बैठे रहते हैं जिससे उन्हें कुछ अच्छी-अच्छी मजेदार खाने वाली चीजें उपलब्ध हो सकें.फेरीवाले के चारों ओर बच्चे काफी समय तक एक घेरा बनाएं लाइन में खड़े हुए रहते हैं.वह अपनी वस्तुओं को खरीदकर अगले दिन का इंतजार करते हैं कि कब फेरीवाला आये और हमें हमारी जरूरतों की चीजें उपलब्ध कराएं.

इस तरह से हम कह सकते हैं कि फेरीवाले के हमारे शहर,गांव एवं मोहल्ले में आने से हमें बहुत फायदा होता है वहीं दूसरी ओर हमें नुकसान भी होता है क्योंकि यह कुछ चीजें महंगी देते हैं या गंदगी युक्त चीजें देते हैं जिससे हमें नुकसान हो सकता है हमें सोच समझकर इनसे अपनी आवश्यकताओ की वस्तुए खरीदना चाहिए.

दोस्तों अगर आपको हमारा ये आर्टिकल Essay on feriwala in hindi पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करना न भूले और हमें कमेंट्स कर यह बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल feriwala in hindi essay कैसा लगा अगर आप चाहे हमारी अगली पोस्ट को सीधे अपने ईमेल पर पाना हो तो हमें सब्सक्राइब जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.