साँच को आँच नहीं पर निबंध Saanch ko aanch nahin essay in hindi

Saanch ko aanch nahin essay in hindi

Sach ko aanch nahin essay in hindi-हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी,दोस्तों आज का हमारा ये आर्टिकल Saanch ko aanch nahin essay in hindi आप सभी के लिए बहुत ही हेल्पफुल होगा दोस्तों मैंने स्कूल-कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए ये nibandh लिखा है जिससे उन्हें अपनी स्कूल कॉलेज की परीक्षा में निबंध लिखने के लिए जानकारी मिल सके.यहां से कोई भी विद्यार्थी निबंध लिखने के लिए जानकारी ले सकता है आज का हमारा आर्टिकल सांच को आंच नहीं पर निबंध वाकई में हम सभी को एक बेहतरीन जानकारी देगा तो चलिए पढ़ते हैं हमारे आज के इस निबंध को.

Saanch ko aanch nahin essay in hindi
Saanch ko aanch nahin essay in hindi

हम सभी जानते हैं की सांच को कभी आंच नहीं होती अगर कोई इंसान अपने जीवन में सत्य के मार्ग पर चलता है तो उसे कुछ समय तक मुश्किलों का सामना तो करना पड़ता है लेकिन अंत में उसके जीवन से मुसीबतें हमेशा दूर हो जाती हैं क्योंकि सांच को कभी नहीं होती.आज के जमाने में बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो कहते हैं की झूठ बोले बगैर काम नहीं चलेगा लेकिन झूठ बोलकर हम सभी कुछ समय के लिए आनंद जरूर ले सकते हैं लेकिन झूठ बोलकर लंबे समय तक सही तरह से जीवन यापन करना मुश्किल है इसलिए हमें हमेशा सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए.हमारे भारत देश में आज हम स्वतंत्र हैं लेकिन पहले ऐसा कुछ भी नहीं था बहुत से स्वतंत्रता सेनानियों ने हमें अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराया लेकिन अगर हम मुक्त नहीं होते तो अभी भी हम गुलामी की जंजीरों में फंसकर बहुत सी मुसीबतों का सामना कर रहे होते.महात्मा गांधी,चंद्रशेखर आजाद,भगत सिंह,लाला लाजपत राय जैसे बहुत सारे स्वतंत्रता सेनानियों ने हम सभी को गुलामी से आजाद कराने के लिए बहुत सी परेशानियों का सामना किया है.बहुत से स्वतंत्रता सेनानी इस स्वतंत्रता की लड़ाई में मारे गए थे बहुत से स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी दे दी गई थी लेकिन फिर भी उनके किए गए प्रयासों से आज हम लाभान्वित हैं आज भी महात्मा गांधी जी को पूजा जाता है क्योंकि अगर हम सत्य के मार्ग पर चलते हैं तो कुछ समय के लिए मुसीबतें जरूर आती हैं लेकिन सत्य की जय जयकार होती है.

हम सभी जानते हैं की सत्यवादी राजा हरीशचंद्र हमेशा सत्य के मार्ग पर चलते थे उन्होंने अपने जीवन में कभी भी झूठ का सहारा नहीं लिया सत्य के मार्ग पर चलते हुए उन्हें बहुत सारी मुसीबतों का सामना करना पड़ा उनके बीवी बच्चे भी उनसे अलग हो गए उनकी स्थिति बहुत ही बुरी हो गई थी लेकिन सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र ने अपना राज्य वापस पाया था और आज भी सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र का नाम इतिहासों में लिखा गया है वह हमेशा हमेशा के लिए अमर हो चुके हैं वाकई में सत्य के मार्ग पर चलने वाले इंसान कुछ समय के लिए परेशानी का सामना जरूर करते हैं लेकिन सांच को कभी आंच नहीं होती.
श्री रामचंद्र जी जब वन में 14 वर्ष यापन कर रहे थे तब रावण ने सीता मैया का हरण किया.रावण बहुत ही शक्तिशाली था लेकिन कहते हैं कि सांच को आंच नहीं.श्री रामचंद्र जी सत्य के मार्ग पर चलने वाले थे उन्होंने घरवालों के साथ में मिलकर सत्य के मार्ग पर चलकर लंकापति रावण को मार गिराया और सत्य की स्थापना की उन्होंने इस बीच काफी कोशिश की,बहुत सारी मुसीबतों का सामना किया लेकिन अंत में सत्य की जीत हुई.

Related- कोशिश करने वालों की हार नहीं होती Koshish karne walon ki haar nahi hoti essay in hindi

हम सभी जीवन में अपने कुछ लाभ के लिए झूठ बोलते हैं हम समझते हैं कि झूठ बोलने से हमें फायदा होगा लेकिन हम यह नहीं समझते की भले ही हमारा फायदा हो लेकिन लंबे समय तक फायदा नहीं होगा क्योंकि झूठ के कभी पैर नहीं होते और अगर आप गलत रास्ते पर चलते है तो आपके बारे में पता आज नहीं तो कल जरूर चलता है इसलिए हम सभी को सत्य के रास्ते पर चलना चाहिए क्योंकि सांच को कभी आंच नहीं होती जो इंसान सच के रास्ते पर चलता है भगवान भी उसकी हमेशा मदद करता है क्योंकि सत्य का नाम ही ईश्वर है.
आज के इस जमाने में लोग अपने फायदों के लिए सत्य के मार्ग पर नहीं चलते वह समझते हैं कि सत्य के मार्ग पर चलने पर कभी भी कामयाबी नहीं मिलेगी लेकिन दोस्तों अगर आपको जीवन में कामयाबी पाना है तो आप झूठ का सहारा जरूर ले सकते हैं लेकिन अगर जीवन में वाकई में कुछ बड़ा करना है जीवन में एक बड़ी कामयाबी पाना है तो आपको सत्य के मार्ग पर चलना ही होगा क्योंकि झूठ लंबे समय तक नहीं टिकता.आप सत्य के मार्ग पर चलोगे तभी आप दुनिया में एक बहुत बड़ी कामयाबी हासिल कर सकोगे और देश दुनिया में अपना नाम का झंडा फहरा सकोगे.

आज हमारे देश में बहुत से राजनेता ऐसे हैं जो समझते हैं कि वह झूठ बोलकर लंबे समय तक राजनीति कर सकते हैं लेकिन दोस्तों ऐसा नहीं है अगर कोई भी राजनेता झूठ बोलता है तो वह जनता के सामने ज्यादा नहीं टिक पाता जनता उसे पहचान कर अगले चुनाव में हरा देती है उसको वोट नहीं डालती है लेकिन अगर कोई राजनेता सत्य के मार्ग पर चलता है तो वह लंबे समय तक राजनीति करता है क्योंकि सांच को कभी आंच नहीं.इस बीच उसको बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है लोग उसे बुरा भला भी कहते हैं लेकिन वह सत्य के मार्ग पर चलता है ऐसा राजनेता एक सफल राजनेता बन सकता हैं.वह दुनिया में एक मिसाल कायम कर सकता है क्योकि सांच को कभी आंच नहीं होती.

दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल Saanch ko aanch nahin essay in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमैं कमेंट के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल Saanch ko aanch nahin essay in hindi कैसा लगा अगर आप चाहे हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमे सब्सक्राइब जरूर करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.