सुदीप दत्ता की जीवनी Sudeep dutta biography in hindi

Sudeep dutta biography in hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी, दोस्तों आज हम आपके लिए लाए हैं Sudeep dutta biography in hindi .येएक ऐसे महान बिजनेसमैन है जिसने बहुत सारी मुसीबतों का सामना करके जिंदगी में बहुत बड़ी सफलता हासिल की है दोस्तों अक्सर हम किसी सफल व्यक्ति को देखते हैं तो अंदाजा लगा लेते हैं की ये कितने किस्मत वाले हैं और इसी सोच के साथ हम अपने आप को कोसते हैं कि हमारी किस्मत में कुछ भी नहीं है लेकिन हम उस इंसान की मुसीबतों के बारे में नहीं सोचते कि कैसे उस इंसान ने बहुत सारी मुसीबतों का सामना करके इतनी बड़ी कामयाबी हासिल की है.सुदीप दत्ता एक ऐसे ही बिजनेसमैन है जिन्होंने अपने जीवन में बहुत सारी परेशानियों का सामना किया है चलिए पढ़ते हैं इनके जीवन के बारे में

Sudeep dutta biography in hindi
Sudeep dutta biography in hindi

Image source- https://yourstory.com/2016/12/sudip-dutta/

सुदीप दत्ता का जन्म 1972 में वेस्ट बंगाल के दुर्गापुर में हुआ था इनके पिता जी आर्मी में थे लेकिन एक जंग के दौरान अपाहिज हो गए थे और इनसे कुछ भी काम करने का नहीं बनता था कुछ समय बाद इनके भाई भी एक बीमारी से पीड़ित हो गए और पूरे परिवार की जिम्मेदारी सुधीर दत्ता के सर पर आ गई.इनका परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था जिस वजह से ये अपने भाई का इलाज भी नहीं करवा सके कुछ समय बाद इनके भाई का देहांत हो गया इनके पिता जी भी इस हादसे को सहन ना कर सके कुछ समय बाद इनके पिता की भी मृत्यु हो गई और पूरी जिम्मेदारी इनके सर पर आ गयी.ये अपने लिए एक काम दूंढ रहे थे लेकिन इन्हें किसी भी तरह का काम नहीं मिल रहा था इस बीच में सुधीर को ऐसे दिन भी देखने को मिले कि उन्हें खाना भी नसीब नहीं हुआ उन्होंने अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से बात की तो इन्हें एक सुझाव दिया गया कि तुम मुंबई चले जाओ वहां पर हो सकता है तुम्हें अच्छा काम मिल जाए.

ये मुंबई चले आए वहां पर उन्होंने एक फैक्ट्री में मजदूर के रूप में काम किया काफी समय तक काम करने के बाद एक समय ऐसा भी आया कि फैक्ट्री मालिक ने नुकसान के चलते अपनी फैक्ट्री को बंद करने का निर्णय लिया.सुधीर की आर्थिक स्थिति वैसे भी बत्तर थी क्योंकि ना तो इन्हें सही से रहने की व्यवस्था थी और अब तो इनका काम भी इनके हाथ से जा रहा था तभी सुधीर ने उस फैक्ट्री को खरीदने का फैसला किया सुधीर ने अभी तक मजदूरी करके जितना पैसा जमा किया था वह सारा पैसा उन्होंने इकट्ठा किया इसके अलावा उन्होंने अपने कुछ रिश्तेदारों,दोस्तों से रुपया उधार लिया और ₹16000 इकट्ठे करके उस फैक्ट्री के मालिक को दिए लेकिन फिर भी रुपए कम पडे इसके बाद सुधीर ने फैक्ट्री मालिक से कहा कि 2 साल तक मैं आपको इसमें पार्टनरशिप दूंगा इसलिए आप इतने पैसे रखकर मुझे फेक्टरी दे दीजिए.
सुधीर दत्ता जी अब फेक्टरी के मालिक बन चुके थे उसमें बहुत सारे मजदूर थे वह भी अपनी नौकरी गवाने से बच गए थे सुधीर ने अपनी फैक्ट्री को ऊंचाई पर ले जाने के लिए काफी प्रयत्न किया.

Related- आज की अदालत के रजत शर्मा की जीवनी Rajat sharma biography in hindi

इनके बिज़नेस में बहुत से ऐसे प्रतियोगी आए जिनसे मुकाबला करना एक तरह से नामुमकिन था लेकिन अपने अच्छी क्वालिटी का सामान बनाने के दम पर उन्होंने अपनी कंपनी को धीरे-धीरे बहुत ऊपर उठा लिया और आगे चलकर ये कंपनी एलुमिनियम के क्षेत्र में नंबर वन रही.इनकी कंपनी एस डी एल्युमीनियम लिमिटेड आज एक जाना माना नाम है
सुदीप की शादी आरती दत्ता से हुयी और इनसे इन्हें दो बच्चे भी हैं आज सुधीर सिंगापुर में रहते हैं.
सुदीप दत्ता ने अपने जीवन में वाकई में बहुत बुरे दिन देखे हैं इतनी बड़ी सफलता हासिल करने के लिए उन्होंने बहुत सी मुसीबतों का सामना किया है और आज सफलता की उन ऊंचाइयों पर पहुंच चुके हैं कि हर कोई उनके जीवन से प्रेरणा लेता है.

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल Sudeep dutta biography in hindi पसंद आए तो इसे शेयर जरूर करें और हमारा Facebook पेज लाइक करना ना भूलें और हमें कमेंट के जरिए बताएं कि आपको हमारा यह आर्टिकल Sudeep dutta biography in hindi कैसा लगा.अगर आप चाहें तो हमारे अगले आर्टिकल को सीधे अपने ईमेल पर पाना तो हमें सब्सक्राइब जरूर करे.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.